वोकेशनल एजुकेशन क्या है ? ( What is vocational courses )| Vocational education in India

आज वोकेशनल कोर्स की महत्वता बहुत तेजी से बढ़ रही है ऐसे में विद्यार्थियों के मन में यह सवाल आता है कि वोकेशनल  एजुकेशन क्या है ? और यह ट्रेडिशनल कोर्सेज से किस तरह अलग है। तो आज हम बात करेंगे vocational courses kya hota hai और यह भी जानेंगे कि कौन-कौन से वेकेशन कोर्स आप कर सकते हैं ( vocational courses list )

वोकेशनल एजुकेशन क्या है ? [ What is vocational courses ] 

Vocational courses kya hota hai | वोकेशनल  एजुकेशन क्या है

वोकेशनल एजुकेशन एक उभरता हुआ विकल्प है  जिसको करने के बाद आपको आसानी से अपनी मनपसंद जॉब मिल जाएगी।

What is vocational courses :   जैसे किसी विद्यार्थी की रूचि किसी विशिष्ट विषय में होती है तो वह उस विषय में वोकेशनल कोर्स कर सकता है। वोकेशनल कोर्स आपको किसी विशिष्ट विषय में पढ़ाई और ट्रेनिंग करवाता है।

Btech, Bcom, B.E  जैसे कोर्स को ट्रेडिशनल कोर्स कहा जाता है। ऐसे ज्यादातर कोर्स क्लास रूम में पढ़ाये जाते हैं। इस तरह के कोर्स में विद्यार्थियों को थियोरेटिकल जानकारी ज्यादा दी जाती है और प्रैक्टिकल जानकारी केवल इंटर्नशिप के दौरान ही दी जाती है। कई बार बच्चे इंटर्नशिप में मिली हुई प्रैक्टिकल जानकारी में उलझ जाते हैं क्योंकि वह उनकी क्लास रूम में मिली थियोरेटिकल जानकारी से मेल नहीं खाती है।

इसके विपरीत वोकेशनल कोर्स में विद्यार्थी को किसी विशेष  कोर्स की फील्ड में जानकारी दी जाती है ताकि वह अपनी प्रैक्टिकल जानकारी को जागरूक कर पाए। इस तरह के कोर्स में विद्यार्थियों को प्रैक्टिकल जानकारी ज्यादा दी जाती है और वही क्लासरूम जानकारी बहुत कम दी जाती है। यह कोर्स इस तरीके से बनाए गए हैं कि जब विद्यार्थी इस कोर्स को करके जॉब के लिए जाए तो वह पूरा तैयार होकर जाए। 

Vocational course kaise karen [ वोकेशनल कोर्स मीनिंग इन हिंदी ] 

ट्रेडिशनल कोर्सेज ज्यादा समय के होते हैं वही वेकेशनल कोर्स करने में समय कम लगता है। ज्यादातर वेकेशन कोर्स को करने के लिए 12वीं कक्षा पास होना जरूरी है और इंग्लिश और मैथ की सामान्य जानकारी होनी चाहिए। वहीं कुछ वोकेशनल कोर्स ऐसे भी होते हैं जो 10th कक्षा पास करने के बाद भी कर सकते हैं।

लेकिन अगर बात करें आजकल के विद्यार्थियों की सोच कि तो ज्यादातर विद्यार्थी ट्रेडिशनल कोर्सेज को ही अपनाते हैं। क्योंकि आज भी विद्यार्थी यह मानते हैं कि ट्रेडिशनल कोर्स करने के बाद उन्हे जॉब आसानी से मिल जाएगी क्योंकि यह कोर्स से डिग्री मिलती हैं जबकि वोकेशनल कोर्स करने के बाद डिप्लोमा मिलता है। इसी वजह से वोकेशनल कोर्स   का इतना विस्तार होने के बावजूद भी हसे इतनी महत्वता नहीं दी जाती है। पर वोकेशनल कोर्स करने पर आपको कई फायदे मिलते हैं ।

वोकेशनल कोर्स के फायदे [ importance of vocational education ]

•  पहला फायदा यह है कि इस कोर्स को करने के बाद आप आम कोर्स की तरह जॉब के लिए तैयार हो जाते हैं।

•   दूसरा फायदा यह है कि यह आपको किसी स्पेशल फील्ड में जानकारी होती है। जिससे कि आपको जाॅब मिलने के अवसर काफी बढ़ जाते हैं। इस कोर्स के दौरान दी जाने वाली ट्रेनिंग उस इंडस्ट्री की वास्तविकता से मैच करती है। 

•  वोकेशनल कोर्स की ड्यूरेशन यानी कि इसको करने का समय कम होता है। इसके साथ-साथ इसकी फीस भी बहुत कम होती है। 

•  यह कोर्स इंडस्ट्री की डिमांड के आधार पर बनाए जाते हैं और इसके साथ इस कोर्स को ऑनलाइन भी किया जा सकता है।

यह भी पढें :  डिप्लोमा कोर्स क्या होता है इसमें जॉब के लिए क्या विकल्प होते हैं?

Vocational education in India

ऑनलाइन वोकेशनल कोर्स : 

•  हेल्थ केयर

•  वेब डिजाइनिंग

•  ग्राफिक 

•  फूड टेक्नोलॉजी 

•  कॉस्मेटोलॉजी

तो आइए आपको ऐसे कुछ वोकेशनल कोर्सेज के बारे में  थोड़ी सी जानकारी देते हैं ।

वोकेशनल कोर्सेज लिस्ट [ Vocational courses list ]

•  फॉरेंसिक साइंटिस्ट 

किसी अपराधी को पकड़ने के लिए जांच में विज्ञान का उपयोग ही फॉरेंसिक साइंस कहलाता है और इस कोर्स को करने के बाद आपको गवर्नमेंट और प्राइवेट सेक्टर में फॉरेंसिक लैब में जाॅब मिल जाएगी।

•  टेलीकम्युनिकेशन

 टेलीकम्युनिकेशन एक बहुत अच्छा करियर ऑप्शन रह सकता है। इस कोर्स को करने के बाद टेस्टिंग इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर, डिजाइन एंड डेवलपमेंट, मार्केटिंग, रिसर्च जैसी बहुत सारी फील्ड में जॉब मिल सकती है क्योंकि टेलीकम्युनिकेशन बहुत सारे बड़े सेक्टर्स में अपनी मौजूदगी रखता है।

•  ऑडियो इंजीनियरिंग

इस कोर्स में आप उपकरण को ऑपरेट करना और म्यूजिक और ऑडियो को रिकॉर्ड करना सीखते हैं। जिसके बाद आपको रिकॉर्डिंग स्टूडियोज और मीडिया हाउसेस में जॉब मिल सकती है।

•  फोटोग्राफी 

फोटोग्राफी एक पॉपुलर कोर्स है। जिसमें आपको बहुत सारे ऑप्शन मिल जाते हैं जैसे : वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी,  प्रोडक्ट फोटोग्राफी ।

•  फॉरेन लैंग्वेजेस

विदेशी व्यक्ति के साथ बातचीत करने के लिए और बिजनेस को अच्छे से चलाने के लिए आजकल लैंग्वेज एक्सपर्ट की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है। ऐसे में यह कोर्स करके आप लैंग्वेज ट्रांसलेटर जैसी जॉब पा सकते हैं।

•  गेम डिजाइनर 

गेम डिजाइनर की बात करें तो यह कोर्स करके आप वीडियो गेम्स डिजाइन कर सकते हैं और इसको करने के बाद आप  आसानी से जॉब पा सकते हैं।

•  इवेंट मैनेजमेंट 

इवेंट मैनेजमेंट की बात करें तो प्रजेंट टाइम की मोस्ट प्रॉमिस इन इंडस्ट्रीज में से एक है और उसको उसको करके आपको स्पीड में बहुत से जॉब ऑप्शन आसानी से मिल जाएंगे।

इनके अलावा वोकेशनल कोर्स में आपको टेक्निकल वर्क जैसे आटोमोटिव रिपेयर, प्लंबिंग और एयर कंडीशनिंग जैसे ऑप्शंस भी मिल जाएंगे। 

तो आपको वोकेशनल कोर्स कया है ? के बारे जानकारी मिल गई होगी और आप इन कोर्स की महत्वता को भी समझ गए होंगे। हालांकि बीते कुछ समय से इन कोर्स को थोड़ी ज्यादा महत्वता मिलने लगी है और अगर आप यह कोर्स चुनते हो तो आप आसानी से नौकरी पा सकते हैं। 


टिप्पणियाँ