12th Commerce ke Baad Konsa course kare | BFM course Hindi

अगर आपने अपनी 12वीं कक्षा कॉमर्स स्ट्रीम से कर ली है तब आप यह सोच रहे होंगे कि 12th Commerce ke Baad konsa course kare जो बच्चे फाइनेंसियल मार्केट में बहुत दिलचस्पी रखते हैं वह 12वीं कक्षा करने के बाद बैचलर ऑफ फाइनेंशियल  मार्केट/ BFM की तरफ जा सकते हैं। 

फाइनेंस मार्केट कोर्स की महत्ता आज की जिंदगी में काफी बढ़ गई है चाहे वह शेयर बाजार हो या Mutual funds या कोई भी काम हो उसमें पैसे का हिसाब जरूर शामिल होता है। ऐसे में कुछ बच्चे 12वीं कक्षा पास करने के बाद BFM करने के बारे में सोचते हैं। तो आज हम आपको बताएंगे कि BFM क्या होता है, BFM के बाद क्या करें ( After BFM Jobs ).

12th commerce ke baad konsa course kare |Bachelor of Finance Markets ( BFM )


बी.एफ.एम क्या है / BFM kya hai 


Bachelor of Commerce in Financial Markets/ BFM 3 साल का ग्रेजुएट लेवल बैचलर डिग्री प्रोग्राम है जो कि विद्यार्थी को फाइनेंस में स्पेशलाइजेशन करवाता है। इस कोर्स के दौरान विद्यार्थी फाइनेंस की धारणा को बहुत गहराई से पढ़ते हैं और इसका उपयोग करना सीखते हैं। बी.एफ.एम / BFM में यह कुछ विषय है जो आप सीखते हैं : Management portfolio, co-operate finance,  working capital Management , share market, Mutual funds .


इसमें से कुछ विषय है जो आप अपनी 12वीं कक्षा में पढ़ कर आते हैं और BFM में आपको इसको गहराई में पढ़ाया जाता है। वहीं कुछ ऐसे विषय हैं जो आपने पहले नहीं पड़े होते तो ऐसे विषय को पढ़ना काफी रोचक होता है।


BFM के लिए योग्यता / BFM कैसे करें


•   सबसे पहले BFM करने के लिए आपको अपनी 12वीं कक्षा पास करनी होगी। यह जरूरी नहीं है कि इस कोर्स करने के लिए आपके पास Commerce होनी चाहिए बल्कि आपने किसी भी स्ट्रीम से अपने 12th कक्षा पूरी की है तब भी आप इस कोर्स के लिए योग्य है ।


•   किसी अच्छे कॉलेज से BFM करने के लिए आपके 12वीं कक्षा में 60% या इससे ऊपर अंक होने जरूरी है।


ऐडमिशन प्रोसेस फॉर BFM / BFM Admission Process 


भारत में ऐसे बहुत सारे कॉलेज हैं जो आपको BFM में बारहवीं कक्षा के Merit Base ( बारहवीं कक्षा के मार्क्स के आधार पर) पर एडमिशन देते हैं। वही कुछ ऐसे कॉलेज है जो BFM में एडमिशन देने के लिए आपका Entrance Exam लेते हैं। इसी के साथ कुछ ऐसे कॉलेजेस भी हैं जहां आपका इंटरव्यू राउंड भी होता है। इसी के आधार पर ही आपको उस कॉलेज में BFM की सीट दी जाती है।


यह ध्यान रखने वाली बात यह है कि अगर आपने एडमिशन Merit Base ( Direct Admission )  लिया है तब आपको Placements के वक्त कम सैलरी मिलेगी। क्योंकि कंपनियां उन बच्चों को ज्यादा महत्व देती हैं जिन्होंने एंट्रेंस एग्जाम देकर एडमिशन लिया है।  इसलिए ज्यादातर अच्छे और बड़े कॉलेज एंट्रेंस एग्जाम द्वारा ही आपको BFM में एडमिशन देते हैं।  इसलिए आप अच्छे कॉलेज से ही अपना BFM कोर्स पूरा करें।


यह कुछ BFM Entrance Exams है :


•  Aligarh Muslim University Entrance Exam

•  Mumbai University Entrance Test

•  Delhi University Arts Exam


• सब्जेक्ट ऑफ BFM / BFM Subjects 


BFM 3 साल का ग्रेजुएशन कोर्स होता है जिसमें आपका मुख्य सब्जेक्ट Finance होता है। इसी के साथ यह BFM Subjects 1st Year है :

Micro - Economics 1 Principles of Investment
Management Accounting Macro - Economics 2
Principles of Business Management Business Environment
Financial Accounting Statistical Applications
Environment of Financial System

BFM Subjects 2nd Yearहै : 

Taxation for Investments
Debt Markets Business Ethics
Corporate Finance 1 Equity Market 1
Business Laws Corporate Finance 2
Equity Market 2 Organizational Behavior


BFM के फाइनल ईयर में आपको वह सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं : BFM Subjects 3rd Year -

Foreign Exchange Market Corporate Governance
Computer Applications in Financial Services
Mutual-fund Market Global Capital Markets
Derivative Markets Portfolio Management
Project 1 Project 2


BFM के बाद क्या करें / कॉमर्स में कौन-कौन सी जॉब है ? ( After BFM Jobs )

BFM करने के बाद विद्यार्थी के पास काफी विकल्प रहते हैं। फाइनेंशियल मैनेजर की जरूरत हर कंपनी में होती है। क्योंकि हर फील्ड में पैसे का हिसाब किताब जरूरी हो गया है। इसलिए बैचलर ऑफ फाइनेंशियल मार्केट (BFM) के बाद आप किसी भी सेक्टर में जॉब आसानी से पा सकते हैं। BFM करने के बाद आप इनमें जॉब पा सकते हैं : 


•  Financial Consultant

•  Export Import Manager

•  Stock Broker

•  Banker

•  Tax Consultant

•  Human Resource

•  Accountant


अगर आप जानना चाहते हैं कि बीकॉम के बाद क्या-क्या कर सकते हैं तो यहां विस्तार से पढ़ें : B.com ke baad kya kare 


बीकॉम के बाद सरकारी नौकरियां / Bachelor of Financial Market Govt Jobs 

1. B.COM Government Jobs for Centre Level

BFM करने के बाद आप केंद्र सरकार के एग्जाम ( जैसे SSC CGL ) के लिए तैयारी कर सकते हैं। यह केंद्र लेवल एग्जामिनेशन होती है। यह 2 भाग में होती है पहले भाग का एग्जाम मार्च में आयोजित किया जाता है वहीं दूसरे भाग का एग्जाम नवंबर में आयोजित किया जाता है। BFM फाइनल ईयर के विद्यार्थी इसमें अप्लाई नहीं कर सकते केवल वही विद्यार्थी जिन्होंने अपनी ग्रेजुएशन पूरी कर ली है इस एग्जाम के लिए योग्य होते हैं।

2.  B.COM Government Jobs for State Level

भारत में हर राज्य अपने ग्रेजुएट विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग एग्जाम आयोजित करवाते है। BFM करने के बाद आप इन एग्जाम के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। 

Bachelor of Commerce in Financial Markets  की डिग्री करने के बाद आप आगे की पढ़ाई में कर सकते हैं: 

 1. Chartered Accountant / CA

BFM करने के बाद आप सबसे लोकप्रिय कोर्स जोकि चार्टर्ड अकाउंटेंट ( CA ) होता है वह कर सकते हैं। इसके लिए आपको BFM करने के बाद IPCC की परीक्षा देनी होगी और इसके बाद 3 साल का Article Ship करना होगा और अंत में आप फाइनल एग्जाम में बैठ सकते हैं। CA की सैलरी 10 लाख से लेकर 20 लाख साल की हो सकती है ।

 2. मास्टर ऑफ कॉमर्स / M.com

BFM करने के बाद आप इसमें मास्टर्स भी कर सकते हैं जो कि मास्टर ऑफ कॉमर्स यानी M.com है। अगर आपके ग्रेजुएशन में 60% अंक से ऊपर है तो आप किसी अच्छे कॉलेज से M.com जो कि 2 साल का कोर्स होता है वह कर सकते हैं।

3. Certified Management Accountant 

CMA एक प्रोफेशनल कोर्स है जिसको करने के बाद आप बड़ी बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी ( MNCs ) मे आसानी से नौकरी पा सकते हैं।BFM से ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद आप सीधा Intermediate देकर CMA Final मे जा सकते हैं। 


टिप्पणियाँ